This user has not made any comments
    12

मुसलमान के बाद कौन। i.indiaopines.com/abhishekkumarpreetam/%e0%a4%ae%e0%a5%81%e0%a4%b8%e0%a4%b2%e0%a4%ae%e0%a4%be%e0%a4%a8-%e0%a4%95%e0%a5%87-%e0%a4%ac%e0%a4%be%e0%a4%a6-%e0%a4%95%e0%a5%8c%e0%a4%a8%e0%a5%a4/

submitted 12 months ago by in Politics
Start a discussion.
Article Details

सही माहौल बन रहा है… ये देश हिंदुओं का है। मुसलमान बाहर से आए, हमारी मंदिरे तोड़ी, हमें सताया, हमारी सभ्यता को नुक़सान पहुँचाया और अपने धर्म को बढ़ावा दिया। बदला लेने का समय है अब। हिंदुत्ववादी सरकार बनी है, अब या तो मुसलमान मान ले की वो मूल रूप से हिंदू है और दूसरे दर्जे के नागरिक बन कर रहे या चले जाए यहाँ से। रहना है तो हमारे अहसान तले रहो या निकल लो। और ये कोई ज़्यादती नहीं है, तुमने सालों पहले यही किया था तो अब ऐसा ही जवाब मिलेगा। जय हिंदू।
ठीक है कि मुसलमानो को निपटाने का अभियान चल गया है। भाई आख़िर सरकार है अपनी। अब अगले आक्रमणकारी पर ध्यान डालते है। ईसाई को देख लिया, मुसलमान को देख रहे है अब उसके बाद कौन। उसके पहले के आक्रमणकारी कौन थे। दलितों पे किसने ज़्यादती की, कौन उनके पढ़ने और आगे बढ़ने में बाधक बना, किसने दलितों और पिछड़ो को सामाजिक और आर्थिक रूप से पीछे रखा। किसने दलितों को मंदिर में घुसने पे रोक लगाई, मारा-पीटा, शास्त्र का ज्ञान होने पे कान में खौलता मोम डालने की बात की, महिलाओं-बच्चों पे अन्याय किया। किसने दलितों की सभ्यता, खान पान, पहनावा, रहन सहन, पूजा नियम को नीचा दिखाया और ध्वस्त किया।
भाई अगर वाक़ई ये समय इतिहास के अत्याचार का बदला लेने का है तो जैसा हम ईसाई और मुसलमान के साथ कर रहे है उसी क्रम से अगली संख्या ब्रह्मिनो की आती है। किसी भी गिनती से भारत में दलितों और पिछड़ो की संख्या ब्रह्मिनो और अगडो से बहुत ज़्यादा है। आख़िर बहुसंख्यक्वाद ही चलना है तो ज़रूरी है की अब दलितों की सरकार बने। और जैसा कुछ भी मुसलमानो के साथ हो रहा है या बहुत सारे लोग करना चाहते है वो फिर ब्रह्मिनो के साथ हो।
और हाँ ईसाई को युरोप जाने कहते हो ना और मुसलमानो को अरब देश या पाकिस्तान। भाई जब ये दलित हमारी (क्यूँकि में भी एक ब्राह्मण हूँ) “घर वापसी” करवाएँगे तो हमें तो सीधा भगवान के घर जाना होगा। वोहि भगवान जिनका नाम लेकर और जिनका डर दिखाकर हमारे पूर्वजों ने दलितों और पिछड़ो पे अत्याचार किया।

निवेदन यह है की हम जागे और मानवता के मूल्य को समझें।

    15

ओ री दुनिया i.indiaopines.com/abhishekkumarpreetam/%e0%a4%93-%e0%a4%b0%e0%a5%80-%e0%a4%a6%e0%a5%81%e0%a4%a8%e0%a4%bf%e0%a4%af%e0%a4%be/

submitted 12 months ago by in Politics
Start a discussion.
Article Details

Friends,

The incidents of Dadri and Hamirpur- of a muslim men being beaten by bricks and iron rods to death on the suspicion that he might have consumed beef, and of a dalit elderly man beaten and burnt alive for trying to enter a temple, respectively, is a very grim reminder of the very high currents of communalist spirit taking space in our society.
It is a very very dangerous trend. We all must take note and fight our own battles against it before it comes to haunt us personally in some or the other way and we are left alone. Let’s unite!

Presenting ओ री दुनिया a masterpiece from Piyush Mishra to emphasize my point. The last para where he says even God says तुम्हारी है तुम ही सम्भालों ये दुनिया… when men starts distinguishing themselves between religions.

ओ री दुनिया

सुरमई आँखों के प्यालों की दुनिया
 सतरंगी रंगों गुलालों की दुनिया..ओ दुनिया
 अलसाई सेजों के फूलों की दुनिया
 अंगडाई तोड़े कबूतर की दुनिया

करवट ले सोयी हकीकत की दुनिया
 दीवानी होती तबीयत की दुनिया
 ख्वाहिश में लिपटी ज़रुरत की दुनिया
 इंसान के सपनो की नीयत की दुनिया..ओ दुनिया

ओ री दुनिया
 ये दुनिया अगर मिल भी जाए तो क्या है…

ममता की बिखरी कहानी की दुनिया
 बहनों की सिसकी जवानी की दुनिया
 आदम के हव्वा से रिश्ते की दुनिया
 शायर के फीके लफ्जों की दुनिया

गालिब के, मोमिन के, ख़्वाबों की दुनिया
 मजाजों के उन इन्कलाबों की दुनिया
 फैज़ फिराक ओ साहिर ओ मखदूम
 मीर की जौक की दागों की दुनिया

ये दुनिया अगर…

पल छीन में बातें चली जाती हैं
 पल छीन में रातें चली जाती हैं
 रह जाता है जो सवेरा वो ढूंढे
 जलते मकान में बसेरा वो ढूंढे

जैसी बची है वैसी की वैसी बचा लो ये दुनिया
 अपना समझके अपनों के जैसी उठालो ये दुनिया
 छुट पुट सी बातों में जलने लगेगी संभालो ये दुनिया…
 कट पिट के रातों में पलने लगेगी संभालो ये दुनिया..

ओ री दुनिया…

वो कहे हैं की दुनिया ये इतनी नहीं है
 सितारों से आगे जहां और भी है
 ये हम ही नहीं हैं वहाँ और भी है
 हमारी हर एक बात होती वहीँ है

हमें ऐतराज़ नहीं है कहीं भी
 वो आलिम हैं फाजिल हैं होंगे सही ही
 मगर फलसफा ये बिगड़ जाता है
 जो वो कहते हैं

आलिम ये कहता वहाँ इश्वर है
 फाजिल ये कहता वहाँ अल्लाह है
 काबुर ये कहता वहाँ इसा है
 मंजिल ये कहती तब इंसान से की

तुम्हारी है तुम ही सम्भालों ये दुनिया
 ये बुझते हुए चंद बासी चरागों
 तुम्हारे ये काले इरादों की दुनिया…

ओ री दुनिया

Movie/Album: गुलाल (2009)
Music By: पियूष मिश्रा
Lyrics By: पियूष मिश्रा, स्वानंद किरकिरे
Performed By: पियूष मिश्रा

Rough english translation- (courtesy www.bollymeaning.com)

O world,
O dear world,
O world of cups of kohl-lined eyes (from which one can drink),
O world of rainbow-colored colors and Gulaals..

it’s a world of flowers decorating sleepy beds (for the wedding night),
it’s a world of lazy-stretching pigeon..
it’s a world of truth sleeping (calmly) by its side,
and a world of a temperament going mad..
it’s a world of needs wrapped with wishes,
it’s a world of humans’ dreams and their intentions..

World, o world,
what’s there (to celebrate) even if one gets this world..
what’s there even if one gets this world…
what’s there.. (there is nothing in this world that is worth)…

The world of stories of (mothers’) shredded love,
The world of sisters’ sobbing youth,
A world of the relation of Adam and Eve,
World of uninspiring words of poets..
The world of Ghalib and Momin’s dreams,
the world of those revolutions of poets like Majaz (Lakhnawi),
World of Faiz (Ahmed Faiz), Firaaq (Gorakhpuri), Sahir (Ludhiyanvi), Makhdoom (Mohiuddin), Mir (Taqi Mir), (Mohd Ibrahim) Zauq, and Daagh (Dehlvi)..
[All these were poets known for their revolutionary moods, in different times]

Within moments, things move on,
within moments, nights go (as in, everything goes in a matter of moments)
the one who remains, looks for the morning,
looks for a place to live in the burning house..

Save this world, whatever is remaining in here, as it is,
Think of it as your own, and pick it up (in your arms, to protect it),
(else) it’ll start burning in small-unimportant things, save this world,
it’ll be cut-bruised-beaten and will be living in nights (dark times), save this world…

O world, dear world,

They say that the world is not this much (only),
there are more world beyond the stars,
It’s not just us,
there is Someone Else too (talking of God here)
everything about us is decided there only,

(and) we don’t have an objection to that anywhere,
They’re knowledgeable, virtuous, would be correct too,

but this philisophy goes bad, when they say-
The Intelligent says there is Eeshwar (Hindu God)
The Virtuous says there is Allah,
The Perfect one says there is Jesus,
Then the destination says to the man,

that- this world is yours, you only take care of it!
This world of a few old, dying lamps,
world of your dark intentions…

    15

BJP as an alternative to INC i.indiaopines.com/abhishekkumarpreetam/bjp-as-an-alternative-to-inc/

submitted 12 months ago by in Politics
Start a discussion.
Article Details

I was too young (3 years old) to understand the ramifications of Bharatiya Janata Party (BJP) act of 1992 and how it changed the social fabric of India. This may be one reason why by 1997-98 I was a big fan of this party, it’s ideology and it’s pro-hindu stance. Yes I was not too old to properly comprehend it even then but we, in Bihar, does have more political and social conscience from very early age.
So I can understand those who are fan-boys of Narendra Modi (of whatever age), whose political conscience is new found, thus either not able to understand what happened in 2002 under his watch or it’s implication on our society.
But the similarity ends there… the BJP of 96 to 2004 or even later till Atal Bihari Vajpayee and Lal Krishna Advani were in command, was a completely different party. It was a much independent party compared to the Jan Sangh days of being remote controlled by Rashtriya Swayamsevak Sangh : RSS. Yes it depended on RSS but it’s social agenda of governance does not flow from RSS, neither was it remote controlled. Governance was owned by Atal ji and advised by Brajesh Mishra much to the chagrin of RSS. From being a extreme right party, Atal and Advani made BJP more of centre-right party with inclusive agenda and put aside all controversial issues. The pair of Atal & Advani further believed in empowerment and sharing power, thus leaders like Syed Shahnawaz Hussain was given prominence. Nitish Kumar was promoted in Bihar (even at the cost of BJP), Babulal Marandi in Jharkhand and BJP happily played second fiddle to Shiv Sena in Maharashtra, Naveen pattnaik in Odisha, etc. It was the era of inclusiveness and progress, so a Pradhanmantri Gram Sadak Yojna was for infrastructure development and at the same time Advani convinced Late Bal Thackeray to avoid anti-north indian rants, and so Shiv Sena spread to Bihar, UP, Delhi, etc. Thus, BJP (though had sins of ’92 and influence of RSS with it’s divious agenda of hate) was an able alternative to Indian National Congress.
But under Modi, the fan-boys should see that while he is on a personal campaign which may appeal to some of us but the social aspect of governance is completely dominated by RSS. There is no argument that we need credible and stable alternative to Congress but RSS can’t be that option. Just because we need that alternative, and there is none to fall back upon, and the deeds of Gujarat have only affected 20% of the population so most of us are not ‘that’ uncomfortable with Modi, and Modi’s antics have appealed to some of us who think it is ‘cool’, we must not take our eyes away from the agenda of RSS which will do us irrepairable damage. To safeguard our alternative, let us not start justifying RSS, for it will come back to haunt us. RSS agenda is not just harmful for the minority 20% of the population, but also the liberals who forms the majority of the remaining 80% of us. We may chose to live in oblivion but it will have grave ramifications.
BJP under Modi, and with social agenda being driven by RSS, just can’t be the alternative to Congress. It is a doom’s day invitation.

    12

राष्ट्रवाद या संघवाद (राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघवाद) i.indiaopines.com/abhishekkumarpreetam/%e0%a4%b0%e0%a4%be%e0%a4%b7%e0%a5%8d%e0%a4%9f%e0%a5%8d%e0%a4%b0%e0%a4%b5%e0%a4%be%e0%a4%a6-%e0%a4%af%e0%a4%be-%e0%a4%b8%e0%a4%82%e0%a4%98%e0%a4%b5%e0%a4%be%e0%a4%a6-%e0%a4%b0%e0%a4%be%e0%a4%b7/

submitted 12 months ago by in Politics
Start a discussion.
Article Details

जो लोग ये सोच कर परेशान हो रहे हो की भाई ये Bharatiya Janata Party (BJP) एक तरफ़ तो अफ़ज़ल गुरु को शहीद मानने वाली PDP से गठबंधन करके जम्मू कश्मीर में सरकार बनाती है, फिर JNU में अफ़ज़ल गुरू पे हुए कार्यक्रम पे भरकने का ऐसा नाटक क्यूँ।
और क्यूँ कन्हैया कुमार को देश द्रोह के आरोप में अंदर किया, ना तो उसने ये कार्यक्रम आयोजित किया था ना ही उसने कोई देश विरोधी नारे लगाए। छात्र संघ का अध्यक्ष होने के नाते वो बस वहाँ उपस्थित था।
इसका असली कारण है दक्षिण पंथियों (राइट विंग) और वाम पंथियों (लेफ़्टिस्ट) का आपसी टकराव और दक्षिण पंथियों के मन की कुंठा का परिणाम।
वाम पंथ में मेरी बहुत आस्था नहीं है क्यूँकि वाम पंथ ने विश्व को बहुत कुछ ग़लत दिया है। लेकिन ये भी सच है की हर व्यक्ति ने अपने जीवन में कभी ना कभी वाम पंथी सोच स्वीकार किया है। समाज के सबसे वंचित तबके को उसका हक़ दिलाने के लिए।
हालाँकि मेरी नज़र में मार्क्स से बेहतर तरीक़ा अम्बेडकर का है, जहाँ तक वांछितों को उनका हक़ दिलाने की बात है।
अब समझना ये है की दक्षिण पंथियों के मन में वाम पंथियों के लिए ऐसी कुंठा क्यूँ है। इसे समझने के लिए, भारत के परिप्रेक्ष्य में वाम पंथ और दक्षिण पंथ के विस्तार को समझना होगा। भारत में वाम पंथ का विस्तार उन लोगों के द्वारा हुआ जो विदेशी शिक्षा और आध्यात्मिक, सामाजिक उत्थान से जुड़े। ये पढ़े लिखे बौद्धिक क़िस्म के लोग थे। इन्हें हर व्याख्यान में इज़्ज़त और स्वीकार्यता मिली। धीरे धीरे वाम पंथ में जुड़ने वाले बाक़ी लोग भी डॉक्टरेट और डि लिट वाले लोग थे। इन्होंने भारत के सभी प्रामाणिक विश्वविद्यालयों में अपना प्रभुत्व जमा लिया और किसी और विचार के लिए बहुत कम या नहीं के बराबर जगह बच पायी।
वोहि दूसरी और आज का दक्षिण पंथ बीते ज़माने के सामंत वादी व्यवस्था का नया रूप है। वैसे लोगों का समूह जिन्हें आदि काल की दोहन पे टिकी सामाजिक व्यवस्था से सबसे ज़्यादा फ़ायदा था। बाद में अंग्रेजो ने इनका उपयोग समाज को बाँटे रखने के लिए किया और इसीलिए दक्षिण पंथ अंग्रेजो का कमोबेस समर्थक रहा और किसी भी सामाजिक सुधार के कार्यक्रम जैसे छुआछूत, विधवा विवाह, ज़मींदारी उन्मूलन, इत्यादि से अलग रहा या उसका विरोध किया।
अंग्रेजो के बाद कांग्रिस ने इनका उपयोग वाम पंथ के प्रभाव को रोकने के लिए किया।
जहाँ एक तरफ़ वाम पंथ विश्वविद्यालयों में अपने प्रभुत्व, अपने लोगों के बौधिक वाद विवाद के दम पर अपना विस्तार कर रहा था। वोहि दूसरी और दक्षिण पंथी कभी गणेश जी को दूध पिलाने के अफ़वाह पे, तो कभी किसी मंदिर के आगे माँस का टुकड़ा फ़िक्वा के, तो कभी मंदिर मस्जिद का मुद्दा उठा कर अपना विस्तार कर रही थी।
और इस सब में उन्हें कांग्रिस का गुप्त समर्थन प्राप्त था।
जब वाम पंथ और कांग्रिस का हो गया और दक्षिण पंथियों के अपने राजनीतिक पक्ष भाजपा को लोगों में स्वीकार्यता मिली तो उनका ध्यान अपने बौधिक दिवालियेपन की तरफ़ गया।
आख़िर वाम पंथियों ने अपने समर्थन में साहित्य की फ़ौज खरी की हुई थी, व्याख्यान के लिए डॉक्टरेट किए हुए लोगों की फ़ौज और फिर सबसे ज़्यादा PhD कर रहे वाम पंथ को समर्थित विद्यार्थी।
जब की दूसरी तरफ़ दक्षिण पंथियों के पास साहित्य के नाम पे मनु स्मृति, सावरकर के लेख और गोलवलकर की विचारों का संकलन (bunch of thoughts) इत्यादि ही था। वो भी बाबा साहेब अम्बेडकर द्वारा बनाये और नेहरु द्वारा संजोये लोकतंत्र में खुल कर अभिव्यक्त नहीं किया जा सकता था। दक्षिण पंथ की बौधिक विवेचना अभी तक जागरण, अष्टयाम और माता की चौकी की आर में भरकाऊ और बाँटने वाली बयानबाज़ी तक सीमित था।
वाम पंथ से बौधिक टकराव के लिए दक्षिण पंथ को या तो अपने विद्वान बढ़ाने थे, शोध करना था, साहित्य लिखने थे। पर इसका ख़तरा ये था की विद्वान होने पर अमूमन लोग दक्षिण पंथ की इस अवधारणा से सहमत ना हों।
क्यूँकि दक्षिण पंथ की ये अवधारणा ग़रीब विरोधी और ठोकशाही के दम पर टिकी है।
विश्वविद्यालयों में जब बौधिक संघर्ष कर दक्षिण पंथी अपनी जगह नहीं बना पाए तो अब वो सत्ता का सहारा ले कर और विरोध को कुचल कर अपनी जगह बनाना चाहते है या कह लो की अपनी कुंठा मिटाना चाहते है।
वो सत्ता जो उन्हें कांग्रिस की नाकामयाबी और जनता के ग़लत फ़ैसले की वजह से मिली है।
ये राष्ट्रवाद की नहीं बल्कि दक्षिण पंथियों के संघवाद की लड़ाई है।

    12

Dr. Ambedkar – The ultimate rebel i.indiaopines.com/abhishekkumarpreetam/dr-ambedkar-the-ultimate-rebel/

submitted 12 months ago by in Politics
Start a discussion.
Article Details

But the world owes much to rebels who would dare to argue in the face of the pontiff and insist that he is not infallible.

 

I do not care about the credit which every progressive society must give to its rebels. I shall be satisfied if I make the Hindus realize that they are the sick men of India, and that their sickness is causing danger to the health and happiness of other Indians.

 

B. R. AMBEDKAR – in the “annihilation of caste”

 

 

 

I have always been enamored by Dr. Ambedkar in particular, and to the ‘Dalit’ (or caste or social justice) movement in India. For I believe, any claim to our progress is un-founded till we work tirelessly to bring to better levels, people from every section of our society. Especially those who have been marginalized and discriminated against historically, we have bigger obligations to them and thus I am a big votary of ‘affirmative action’.

 

It is ironic if we look back at our past and compare our vision with those who comprise a big part of our society, say for e.g. the Dalits. The rule of Shiva ji, the champion of ‘Hindvi’ swaraj (rule of Hindus) and ‘Peshvai’ rule is a matter of great pride for Hindus by and large, but Dalits who have a recollection of their past would argue that the peshvai rule was of great torcher to them and they would prefer ‘now’ to the peshvai rule. We may argue for or against it, but certain truths are better to be accepted and rectified.
Note:- Except for Mauryan empire when the people from backward and marginalised section of society were given adequate voice, no ancient kingdom has worked for the upliftment of Dalits. Few exceptions are Mauryan empire, Lord Buddha, Ashoka post his conversion to Buddhism and in recent past Chhatrapati Shahu ji Maharaj, this has been supported by Dr. Ambedkar as well.

 

Hindu, before being a religion, is a society. And we must accept that we have leaps and bounds to climb before we argue we are the best or we are threatened by another religion. As long as caste system is prevalent and as long as enough affirmative action is not worked upon effectively, it is foolish to talk about our religion as ‘one’ and ‘all encompassing’.

 

Those who talk about uniting Hindus against any other religion must first spell out their agenda, through words and actions, about different sets of people within Hinduism.

 

 

 

Now to Dr. Ambedkar… how should we remember him!

 

He was the first and one of the very few, if not the only, mainstream Indian politician to have a PhD in Economics from London School of Economics. Add to that his research on the ‘caste system’ in India. He was someone who could openly label “Mahatma Gandhi” as a Hindu leader (in my opinion, rightly so and is a matter of pride. But see who all are we today considering as Hindu leaders, what lows have we come to) and challenge Gandhi for an open debate.

 

So is Dr. Ambedkar the icon, on whose birth and death anniversary people have to face traffic jams in all major cities, particularly in Mumbai and Pune. The young and upwardly youth who smirk and have opinion about the ‘blue’ bandwagon about the needless show of strength and idiocity.

 

And, he is someone who ensured the better future of these youths and young India by laying down its foundation through a marvelous constitution.

 

Or, he is the author of a copy and paste constitution, which is devoid of Indian (Hindu) tradition and cultural influence as is alleged by RSS (the ruling ideology of today).

 

Or, Dr. Ambedkar is the icon whose picture you would find at many places, particularly in the home of people belonging to a particular caste, being worshipped and considered a ‘God’, even when Dr. Ambedkar was dead against God worship as such.

 

 

 

To me Dr. Ambedkar was the ultimate rebel. So learned that he gave us a terrific constitution for which we can’t thank him enough, and so puritarian in his thoughts that he can’t get mainstream political success.

 

He will always be an enigma to me and I would sincerely like more people to research on him and learn from him… the lessons of humanity and social progress.

 

 

 

The annihilation of caste- http://ccnmtl.columbia.edu/projects/mmt/ambedkar/web/readings/aoc_print_2004.pdf