» ‘आप’ को ‘आधा तीतर-आधा बटेर’ मनोदशा से बाहर आना होगा